नमस्ते पाठको ,

इन चीज़ो से मोटापा बढ़ता हैं :
जैसा की आप सब जानते हैं | आज कल की जीवनशैली में लोग अपने शरीर और सव्स्थ्य पे ज्यादा ध्यान नहीं देते |
और इसकी वजह से लोगो में मोटापा जैसी समस्या ददखने मिलती हैं |
आज कल लोग जयादातर अपने काम में वयस्त रहते हैंऔर जब थोड़ा बहोत समय मिलता हैं तो मोबाइल और टीवी में व्यस्त हो जाते हैं |
छोटे बच्चे भी मोबाइल टीवी के सामने बैठे रहते हैं जिनकी वजह से उनमे भी मोटापे और दूसरी बीमारिया बढ़ने लगी हैं |

मोटापे से आने वाली समस्या ,

मोटापे की वजह से आये दिन जोड़ो में दर्द होने की सम्भावना होती हैं |
हाई ब्लूडप्रेसर की समस्या ,
पुरे दिन के काम में ज्यादा थकावट आना ,
डायबीटीस का भी खतरा रहता हैं |

खाने में इन चीज़ो का उपयोग ज्यादा करने से आपको मोयापे की समस्या आती हैं }

{1} शुगर :-

आज कल हम हमरे खाने में चीनी का उपयोग ज्यादा करने लगे हैं |
हम जो चीनी कहते हैं वो रिफाइंड चीनी होती हैं
चीनी को रिफाइंड करते समय ऑक्साइड ,फास्फोरिक एसिड ,कैल्शियम हाई ऑक्साइड का उपयोग किया जाता हैं |
रिफाइनिंग के बाद कजहिनी में मौजूद विटामिन्स, मिनरल्स ,और प्रोटीन नष्ट हो जाते हैं |

चीनी हमारे शरीर में एक्स्ट्रा फैट के रूप में जमा होती हैं जिसकी हमारे शरीर को ज्यादा जरुरत नहीं होती हैं | जिसकी वजह से शरीर में फैट जमा होता हैं और मोटापा बढ़ता हैं
चीनी हमारे दांतो को भी कमजोर करती हैं | याददासशक्ति को कमजोर बनती हैं |
एक्स्ट्रा केलेस्ट्रॉल जमा होता हैं |
और डायबिटीस को बढ़ाता हैं | जिसकी वजह से हमारे शरीर में और भी रोग भाते हैं |

इसी वजह से स्पोर्टमैन ,एथलिट ,एक्टर और फिटनेस इंडस्ट्री के साथ जुड़े हुए लोग चीनी का बहोत कम मात्रा मैं उपयोग करते हैं

अगर आप भी एक हेल्थी लाइफ कहते हो तो चीनी का कमसे काम उपयोग करे |

चीनी की जगह आप गुड़ और खजूर का उपयोग कर सकते हैं |

{2} मैंदा :-

     मैदा भी गेहू में से ही बनता हैं | आप पहले ये जान ले की मैदा बनता कैसे हैं | 

मैदा बनाते समय गेहू की ऊपर की ब्राउन परत निकल देते हैं | वो ब्राउन परत पूरी फाइबर की होती हैं , वो ब्राउन परत निकल देने की वजह से मैदा में फाइबर बिलकुल नहीं बचता जिसकी वजह से मैदा पचने में बहोत कठिन होता हैं |

मैदा तेल को अधिक मात्रा में सोख्ता हैं |
मैदा खाने से हमारे शरीर में हानिकारक केलेस्ट्रॉल बढ़ता हैं |
फाइबर न होने की वजह से मैदा हमारे आंतो में चिपक जाता हैं |

पित्ज़ा ,बर्गर,समोसा ,कचोरी जंक फ़ूड। …. आदि में मैदा बहोत होता हैं जो हमरी सेहत के लिए अच्छा नहीं हैं |

सव्स्थ्य रहने के लिए खाने में मैदे का कम उपयोग करना चाहिये |

{3} तली हुई चीज़ :-

 जैसे की हम सब जानते हैं की ताली हुई चीज़ में फैट अधिक मात्रा में होता हैं | 

1gm फैट में 9 कैलोरी होती हैं और तेल में फैट ज्यादा होता हैं इसी लिए ताली हुई चीज़े हाई कैलोरी फ़ूड हैं |

ज्यादा देर तक तलने से तेल में हानिकारक रसायन पैदा होता हैं जो हमरी आंतो के लिए हानिकारक होता हैं |

समोसा ,पानीपुरी,कचोरी पकोड़े आदि में मैदा अधिक मात्रा में होता हैं और वो ज्यादा तेल में तला जाता हैं इसी लिए वो में दोनों रूप से नुकसान करता हैं |

सेहतमंद रहने के लिए ताली हुई चीज़े बहोत काम खानी चाहिए |

रनर और स्पोर्टमेंन ज्यादा ताली हुई चीज़ नहीं कहते क्योंकि उसकी वजह से प्रेक्टिस के दौरान छाती में पैन और भारीपन महसूस होता हैं |

{4} आइस क्रीम और पैक्ड जूस

     आइस क्रीम बच्चो के साथ साथ बड़ो को भी बहोत अच्छी लगती हैं | 

आइस क्रीम में एडेड शुगर होती हैं ,जो हमरे स्वास्थ्य के लिए बहोत हानिकरक हैं | शुगर के क्या नुकसान हैं वो ऊपर बताया हैं |

अगर बात करे ज पैक्ड जूस की तो उसमे कम्पनी वाले फ्लेवोर ऐड करते हैं और बहोत मात्रा में चीनी भी ऐड करते हैं
जो हमारे शरीर में एक्स्ट्रा फैट जमा होता हैं |

वैसे तो जूस हमारे शरीर के लिए लाभदायी हैं परन्तु वो नेचुरल होना चाहिए | जिससे हमें उसके लाभ मिल सके |
नेचुरल जूस घर पे फल लेक उसमे से निकल सकते हैं, ये थोड़ा महंगा पड़ेगा परन्तु सेहत के लिए अच्छा हैं |

जूस के लिए आप नारियल के पानी का उपयोग भी कर सकते हैं |

{5} कोल्ड ड्रिंक :-

आज कल बच्चो से लेकर बड़ो तक सभी लोग कोल्ड ड्रिंक का उपयोग बहोत ज्यादा करते हैं | कोल्ड ड्रिंक में भी एडेड शुगर बहोत ज्यादा होती हैं जो हमारे शरीर में चर्बी जमा करती हैं |

आज कल के युवान एक दूसरे की देखादेखी में कोल्ड ड्रिंक का सेवन ज्यादा करते हैं ,हलाकि ये उनको भविष्य में पहोचता हैं |

कोल्ड ड्रिंक की जगह छास अथवा नारियल पानी का उपयोग करना चाहिये |

   हम अपनी खाद्य सामग्री में थोड़े बहोत बदलाव करने से  हमारा स्वास्थ्य अच्छा हो सकता हैं | 

           STAY HEALTHY ,STAY POSITIVE...